युके चुनाव: हिन्दूत्व और भारत दोनो पर्यायवाची है!

युके चुनाव: हिन्दूत्व और भारत दोनो पर्यायवाची है!

by Jaywant Pandya

बोरीस जॉन्सन एवम् उनकी गर्लफ्रेंड कैरी सिमोंड्स स्वामिनारायण मंदिर में। सौजन्य: इन्टरनेट

यहां युके राजनीति, स्वामिनारायण संप्रदाय, हिन्दूत्व और मीडिया जैसे अनेक बिंदुओं पर विश्लेषण है।

➡भारत में केवल स्वामिनारायण संप्रदाय के कुछ गिनेचुने पथभ्रष्ट संतो के करतूतो को लेकर मिडिया में हेडिंग में स्वामीनारायण के संत ने ये किया, वो किया- लिखा जाता है लेकिन दूसरी तरफ अन्य पंथ (इस्लाम, इसाइ) के विषय में एसा नही होता।

➡इसका एक कारण यह हो सकता है कि विश्व में हिन्दू धर्म का प्रसार करने मे स्वामिनारायण संप्रदाय की भूमिका अहम् रही है। युएइ में मंदिर बने, वह भी स्वामिनारायण का यह बहोत बडी बात है। इस के पीछे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तो है ही, स्वामिनारायण संप्रदाय की भूमिका भी अल्प नहीं।

➡लेकिन प्रसिद्ध कथाकार मुरारि बापु द्वारा सार्वजनिक विवाद करने से मुरारि भक्त (जो अपने आप को सनातनी कहते है, लेकिन वहां भी कुछेक बातों को लेकर मुरारि भक्त नहीं है वह प्रश्न उठाते है) और स्वामिनारायण संप्रदाय के सत्संगीओ के बीच सॉशियल मिडिया में शाब्दिक युद्ध चल पडा है। होना यह चाहिए था कि सार्वजनिक विवाद से पहले मुरारिबापु और महंत स्वामी, माधवप्रिय दासजी आमनेसामने शास्त्रार्थ कर विवाद सुलजा लेते। अभी भी इतना नहीं बिगडा है।

➡ब्रिटन में इस महिने १२ दिनांक को सामान्य चुनाव है। भारत की तरह वहां भी कन्जर्वेटिव हिन्दू व इसाइ को और लेबर पाकिस्तानी व पाकिस्तानप्रेमीओं को मना रहे है। लेबर हमारी कॉंग्रेस और आआप के माफिक मुफ्त की रेवडी भी बांटने की घोषणा कर रही है जो ब्रिटन के बीमार अर्थतंत्र पर ओर आघात साबित हो सकता है।

➡दूसरी ओर, बोरिस जॉन्सनने गर्लफ्रेंड के साथ वहां स्वामिनारायण मंदिर में जाकर दर्शन किये। उन्होंने कहा कि ब्रिटन में हिन्दू विरोधी और भारत विरोधी भावनाओं को पनपने नहीं दिया जायेगा।

www.indiatoday.in/world/story/boris-johnson-british-indians-there-place-anti-indian-sentiments-uk-1626345-2019-12-08

➡इसका एक अर्थ यह है कि हिन्दूत्व और भारतीयता को जोडकर अथवा पर्याय समजकर देखा जाता है।

➡दूसरा, हिन्दूओं की संगठित राजनीतिक शक्ति का ही सामर्थ्य है जो २०१४ और २०१९ में भाजप को तो जीताता ही है, साथ में अमरिका में रिपब्लिकन जो अब तक इसाइ और श्वेत अमरिका पक्षधर थे, वे भी हाउडी मोदी में उपस्थिति दे रहे है। हिन्दू अपनी यह शक्ति पहचाने, बढाये और इस को चालु रखें। (इसका नित्यानंद या कट्टरपन से कोई लेनादेना नहीं)

➡बोरीस की गर्लफ्रेंड भी मंदिर गई तो साडी पहनके गई। उसको भी ज्ञात है कि मंदिर में कैसे वस्त्र पहनके जातें हैं। लेकिन दुःख की बात यह है कि भारत में वामपंथी/नास्तिक/रेशनलिस्टों के बहकावे में हिन्दू नर-नारी भूल गये है और नाइट ड्रेस, टीशर्ट, बरमूडा, स्कर्ट, में पहोंच जाते हैं।

www.daijiworld.com/news/newsDisplay.aspx?newsID=651323

➡बोरीस ने यह भी कहा है कि वह नरेन्द्र मोदी के साथ मिलकर नये भारत के निर्माण में सहयोग करेंगे। अर्थात् अमरिका, इस्राइल के बाद ब्रिटन में भी नरेन्द्र मोदी के नाम का सहारा। मोदी विरोधी चाहे न मानें, नरेन्द्र मोदी निःशंक विश्व नेता है और उसका कारण उनकी लोकप्रियता, उनकी सूजबूज, निर्णयशक्ति तो है ही, लेकिन उनके पीछे हिन्दू (अर्थात भारतप्रेमी- चाहे उपासना पद्धति कोई भी हो) जो खडे है वह है।

www.livemint.com/news/world/uk-pm-johnson-visits-hindu-temple-vows-to-partner-with-modi-to-build-new-india-11575807981193.html

➡अब बात मीडिया की। उपरोक्त इन्डिया टूडे की रिपोर्ट में स्पष्ट उल्लेख है कि बोरीस ने कहा कि ब्रिटन में हिन्दू विरोधी व भारत विरोधी भावनाओं को पनपने नहीं दिया जायेगा। लेकिन हेडिंग में केवल भारत विरोधी का ही उल्लेख है। पत्रकार एसी दलील कर सकते है कि हेडिंग में शब्द की मर्यादा होती है… इत्यादि… लेकिन चूं कि मैं भी पत्रकार हूं इस लिए लिबरल कैसी कैसी बदमाशी करते है वह अच्छी तरह से जानता हूं। जब हिन्दू विरोधी बात हो तो वह कैसे भी करके हिन्दू परिचायक शब्द लायेंगे ही।

Liked this article? To keep getting such articles, please support us.
Click Here

You may also like

Leave a Comment

Your donation can help this website keep running. Please donate from ₹ 10 to whatever you want.